Thursday, April 14, 2016

SSC CGL 2016 Exam Pattern Might Change. Tier-1 will be of Qualifying Nature says "Amar Ujala" Newspaper

Dear Readers,

According to the news published in "Amar Ujala" Newspaper of Allahabad region, the Selection Process of SSC CGL 2016 Exam might change from this year on wards.

According to the published news, following changes will be made in CGL Exam 2016.

  1. Tier-1 will be of Qualifying Nature which means it's marks will not be added to the tier-2 marks while making the final merit list.
  2. Tier-2 will be conducted Online.
  3. Finance & Economics subjects to be added in tier II for the candidates who want to appear for Assistant Auditor post.
  4. The dates of Tier I might change which originally are 8th May 2016 and 22nd May 2016.


NOTE: We do not take any guarantee that the SSC CGL 2016 Exam Pattern will surely change as stated above. But we only want to keep you updated and notified about all the latest news regarding SSC Exams. This change might or might not occur in the coming SSC Exams.

The News Published on Amar Ujala Newspaper is posted below.

कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) स्नातक अभ्यर्थियों के लिए होने वाली सबसे महत्वपूर्ण संयुक्त स्नातक स्तरीय (सीजीएल) परीक्षा-2016 के पैटर्न में बदलाव करने जा रहा है। नकलचियों पर अंकुश लगाने के लिए अब पहले चरण की परीक्षा को क्वालिफाइंग घोषित करके दूसरे चरण की परीक्षा को ऑनलाइन कराया जाएगा। पैटर्न में बदलाव के बाद आयोग आठ और 22 मई को प्रस्तावित सीजीएल टियर-वन की परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ा सकता है।

परीक्षा पैटर्न में यह बदलाव आयोग की अन्य परीक्षाओं में लागू किया जा सकता है। इस संबंध में जल्द आदेश जारी हो जाएगा। इसके बाद परीक्षा तिथि में बदलाव भी होगा। इस परीक्षा में पूरे देश में 35 लाख परीक्षार्थी शामिल होंगे।

अकेले मध्य क्षेत्र में ही सीजीएल-2016 के लिए 7.88 लाख आवेदन आए हैं। इतना ही नहीं सीजीएल परीक्षा में अब साक्षात्कार हटाकर लिखित परीक्षा के अंकों के आधार पर चयन किया जाएगा।

एसएससी के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक सीजीएल 2016 में केंद्र सरकार की ओर से नया पद असिस्टेंट आडिटर शामिल किए जाने के बाद इसके लिए एक नया चौथा प्रश्नपत्र-फाइनेंस एवं इकोनॉमिक्स को टियर-टू में शामिल किया है।

टियर-वन की परीक्षा आब्जेक्टिव टाइप होगी। क्वालीफाइंग किए जाने पर पहले चरण के अंक को चयन में शामिल नहीं किए जाने पर नकल पर रोक लग सकेगी। पहले चरण में स्क्रीनिंग होने के बाद दूसरे चरण की परीक्षा को ऑनलाइन किए जाने से नकल पर लगाम लगेगी।

Source- Amar Ujala




Get Study Materials in Your E-Mail


0 comments:

Post a Comment

Leave your comment but never use bad words otherwise you will be blocked.